पानीपत के प्रथम युद्ध के परिणाम

पानीपत के प्रथम युद्ध के परिणाम पानीपत का प्रथम युद्ध भारत के निर्णयात्मक युद्धों में से है। इसने भारत की राजनीति से एक युग का अंत करके दूसरे युग का आरम्भ कर दिया। उत्तर भारत की राजनीति में इस युद्ध ने भारी फेर बदल कर दिया। (1.) लोदी वंश का अंत: इस युद्ध ने लोदी …

Read moreपानीपत के प्रथम युद्ध के परिणाम

पानीपत का प्रथम युद्ध बाबर की सेना

पानीपत का प्रथम युद्ध बाबर की सेना: अप्रेल 1526 में बाबर अपनी सेना के साथ पानीपत के मैदान में आ डटा। वह अपने साथ 12 हजार सैनिक लाया था किंतु मार्ग में बहुत से भारतीय सैनिक भी उसके साथ हो लिये। इस प्रकार जब बाबर पानीपत के मैदान में पहुँचा तो उसके सैनिकों की संख्या …

Read moreपानीपत का प्रथम युद्ध बाबर की सेना

बाबर का काबुल, गजनी तथा कान्धार पर अधिकार ओर भारत पर आक्रमण

इसे सुनकर बाबर के छोटे भाई जहाँगीर ने फरगना पर अधिकार कर लिया। यह सुनकर बाबर सेना सहित फरगना के लिये रवाना हुआ किंतु वह जहाँगीर से फरगना प्राप्त नहीं कर सका। निराश होकर वह समरकंद लौटा किंतु तब तक समरकंद भी उसके हाथ से निकल गया। कुछ दिनों तक इधर-उधर ठोकरें खाने के बाद …

Read moreबाबर का काबुल, गजनी तथा कान्धार पर अधिकार ओर भारत पर आक्रमण

स्टोरिया डी मोगोर (मोगेल इण्डिया):

इस ग्रन्थ का लेखक निकोलोआ मनूची था। उसका जन्म इटली के वेनिस नगर में 1637 ई. में हुआ था। चौदह वर्ष की अल्पायु में ही वह विश्व भ्रमण के लिए निकल पड़ा। 1650 ई. में वह सूरत होता हुआ दिल्ली पहुँचा। वह तुर्की और फारसी भाषाओं का ज्ञाता था। उसने लम्बे समय तक भारत में …

Read moreस्टोरिया डी मोगोर (मोगेल इण्डिया):

प्रसन्नमना धार्मिक एवं उदारवादी

मैं शिव भक्त हूं। और मैं उतना ही भक्त हूं जितना कोई हो सकता है। इसलिए इसमें कोई हैरानी की बात नहीं है कि अपने घर के पूजाघर में मैंने बीच में भगवान शिव की प्रतिमा रखी है। उसके पास ही, बेशक, अन्य हिंदू देवताओं की प्रतिमाएं हैं, जैसे भगवान राम, भगवान कृष्ण, भगवान गणेश, …

Read moreप्रसन्नमना धार्मिक एवं उदारवादी

आदर्शों पर चलना; भगवान राम का मार्ग

पौराणिक विषयों का लेखक होने का एक फ़ायदा यह भी है कि आपको साहित्यिक उत्सवों में आमंत्रित किया जाता है। ऐसी ही एक सभा में, मेरा सामना धार्मिक दर्शनों और व्यक्तित्वों पर पूछे गए बहुत कठिन सवालों से हुआ। जब किसी कहानी की आलोचना करने की वजह होती है, तो मैं बेहिचक ऐसा करता हूं। …

Read moreआदर्शों पर चलना; भगवान राम का मार्ग

भगवान शिव: असंगतियों के देवता

मेरे एक युवा पाठक ने भगवान शिव को देवताओं का ‘ड्यूड’ कहा था। आप सोच सकते हैं कि किस बात ने उन्हें आधुनिक स्त्री-पुरुषों के बीच इतना लोकप्रिय बनाया है? वे तो, आख़िर, सिंह की खाल लपेटने वाले एक वैरागी हैं जो अपने शरीर पर राख मलते हैं, ख़ाली समय में अपने भयानक दोस्तों के …

Read moreभगवान शिव: असंगतियों के देवता